MAC address का मतलब Media Access Control address हैं।

What is MAC Address in Hindi:
Media Access Control (MAC) एड्रेस एक बाइनरी नंबर है जिसे कंप्यूटर नेटवर्क एडाप्टर युनिकली आइडेन्टीफाइ करता है। प्रत्येक आइडेंटिफायर का उद्देश्य किसी विशेष डिवाइस के लिए युनिक होना है।


इन नंबरों को कभी-कभी hardware addresses या physical addresses भी कहा जाता है, जो मैन्युफैक्चरिंग प्रोसेस के दौरान नेटवर्क हार्डवेयर में एम्बेडेड होते हैं, या फर्मवेयर में स्‍टोर होते हैं, और इन्हें मॉडिफाइ नहीं किया जाता।

कुछ लोग ऐतिहासिक कारणों के लिए उन्हें Ethernet addresses कहते हैं, लेकिन ईथरनेट, वाई-फाई, और ब्लूटूथ सहित सभी टाइप के नेटवर्क MAC एड्रेसिंग का उपयोग करते हैं।

MAC एड्रेस तीन नंबरिंग नेम स्‍पेस के नियमों के अनुसार बनता है, जो कि Institute of Electrical and Electronic Engineers (IEEE) द्वारा मैनेज किया जाता है।

MAC एड्रेस को अक्सर Network Interface Controller (NIC) के मैन्युफैक्चरर द्वारा असाइन किया जाता है और यह इसके हार्डवेयर में स्‍टोर होता है, जैसे कार्ड की रिड-ओन्‍ली मेमोरी या कुछ अन्य फ़र्मवेयर मैकेनिज्म में।

जब मैन्युफैक्चरर द्वारा असाइन किया जाता है, तो MAC एड्रेस आमतौर पर मैन्युफैक्चरर का रजिस्टर्ड आइडेंटिफिकेशन नंबर को एनकोड करता हैं और burned-in address (BIA) को रेफर किया जा सकता हैं।

इसे Ethernet hardware address (EHA), हार्डवेयर एड्रेस या फिजिकल एड्रेस के रूप में भी जाना जाता है।

संक्षेप में, MAC एड्रेस किसी भी डिवाइस के पूरे जीवन काल के लिए अपरिवर्तित रहता है, लेकिन IP एड्रेस डाक कोड की तरह है जिसे बदला जा सकता है।

IEEE 802 स्‍टैंडर्ड में, डेटा लिंक लेयर को दो सब-लेयर में बांटा गया है –

Logical Link Control(LLC) Sublayer

Media Access Control(MAC) Sublayer

MAC एड्रेस Data-Link Layer के सब-लेयर Media Access Control (MAC) द्वारा उपयोग किया जाता है। MAC एड्रेस एक व्यापक शब्द है, चूंकि लाखों नेटवर्क डिवाइस मौजूद हैं और हमें प्रत्येक को विशिष्ट रूप से पहचानने की आवश्यकता है।

MAC Address Hindi
MAC Address Used For?
मैक एड्रेस क्यों होते है?

MAC एड्रेस का एक ऐप्‍लीकेशन, वायरलेस नेटवर्क पर फ़िल्टरिंग प्रोसेस है। अजनबियों को नेटवर्क के एक्‍सेस से रोकने के लिए, राउटर केवल विशिष्ट MAC एड्रेस को एक्सेप्ट कर सकता है।

इस तरीके से, यदि IP एड्रेस बदलता है, उदाहरण के लिए डायनामिक IP एड्रेस के मामले में, तो MAC एड्रेस अभी भी डिवाइस की पहचान कर सकता है।

फ़िल्टरिंग का उपयोग नेटवर्क यूजर्स को ट्रैक करने और उनके एक्‍सेस को लिमिटेड करने के लिए किया जा सकता है। इसमें अन्य उपयोग भी हो सकते हैं, जैसे कि जब कोई अंजान डिवाइस नेटवर्क से कनेक्‍ट होता है, तो उनका पता लगने के लिए।

इन कारणों के लिए, कई कंपनियों और इंस्टीटूशन्स को अपने मेंबर्स के डिवाइसेस के MAC एड्रेस की आवश्यकता होती है।

इसलिए, यह ज़रूरी है कि डिवाइस के ओनर को अपने MAC एड्रेस किसी अधिकृत स्टाफ़ को छोड़कर किसी को न बताए।

Format of a MAC Address in Hindi:
एक MAC एड्रेस में दो कैरेक्‍टर के छह सेट होते हैं, प्रत्येक सेट कोलोन द्वारा अलग किया जाता है।

ट्रेडिशनल MAC एड्रेस 12 डिजिट (6 बाइट्स या 48 बिट्स) हेक्साडेसिमल नंबर्स का होता हैं। वे आम तौर पर निम्नलिखित तीन फॉर्मेट में से एक में लिखे जाते हैं:

MM:MM:MM:SS:SS:SS

MM-MM-MM-SS-SS-SS

MMM.MMM.SSS.SSS

MAC एड्रेस के पहले 6-डिजिट मैन्युफैक्चरर को पहचानते है, जिसे OUI (Organizational Unique Identifier) कहा जाता है। IEEE Registration Authority Committee अपने रजिस्टर्ड वेंडर्स को यह MAC प्रेफिक्सेस को असाइन करती है।


यहां प्रसिद्ध मैन्युफैक्चरर के कुछ OUI हैं:

CC:46:D6 – Cisco

3C:5A:B4 – Google, Inc.

3C:D9:2B – Hewlett Packard

00:9A:CD – HUAWEI TECHNOLOGIES CO.,LTD

राइट के छह डिजिट Network Interface Controller को रिप्रेजेंट करते है, जो मैन्युफैक्चरर द्वारा असाइन किया जाता है।

जैसे कि ऊपर चर्चा की गई है, MAC एड्रेस Colon-Hexadecimal नोटेशन द्वारा दर्शाया जाता है। लेकिन यह सिर्फ एक कन्वर्शन है, अनिवार्य नहीं है। MAC एड्रेंस को निम्न फॉर्मेट में से किसी का उपयोग कर प्रेजेंट किया जा सकता है –


Hypen-Hexadecimal Notation:

00-0a-83-b1-c0-8e

Colon-Hexadecimal Notation:

00:0aL83:b1:c0:8e


Period-Seperated Hexadecimal Notation:

000.a83.b1c.08e


नोट: Colon-Hexadecimal नोटेशन का उपयोग लिनक्स ओएस और Period-separated Hexadecimal नोटेशन Cisco Systems द्वारा किया जाता है।

64-bit MAC Addresses in Hindi:
जबकि सभी ट्रेडिशनल MAC एड्रेस 48 बिट के होते हैं, कुछ टाइप के नेटवर्कों को इसके बजाय 64-बिट एड्रेस की आवश्यकता होती है।

उदाहरण के लिए, IEEE 802.15.4 पर आधारित ZigBee वायरलेस होम ऑटोमेशन और अन्य इसी तरह के नेटवर्क, उनके हार्डवेयर डिवाइसेस पर 64-बिट MAC एड्रेस कॉन्फ़िगर करने की आवश्यकता होती है।


IPv6 पर TCP/IP नेटवर्क IPv4 के मुकाबले MAC एड्रेस से कम्युनिकेटिंग करने के लिए अलग अप्रोच भी लागू करता है। 64-बिट हार्डवेयर एड्रेस के बजाय, IPv6 आटोमेटिकली वेंडर प्रीफ़िक्स और डिवाइस आइडेंटिफायर के बीच एक निश्चित (हार्डकोड) 16-bit कि FFFE वैल्‍यू इन्‍सर्ट कर 48-बिट मैक एड्रेस को एक 64-बिट एड्रेस में ट्रांसलेट करता हैं।

IPv6 इन नंबरों को “आइडेंटिफायर्स” कहता हैं, ताकि उन्हें सही 64-bit हार्डवेयर एड्रेस से अलग किया जा सकता है।

उदाहरण के लिए, एक 48-bit MAC एड्रेस 00: 25: 96: 12: 34: 56 एक IPv6 नेटवर्क के रूप में प्रकट होता है (आमतौर पर इन दोनों में से किसी एक के फॉर्म में लिखा जाता है):

00:25:96:FF:FE:12:34:56

0025:96FF:FE12:3456

TCP/IP नेटवर्क, MAC एड्रेस और IP एड्रेस दोनों का उपयोग करते हैं लेकिन अलग-अलग उद्देश्य के लिए। MAC एड्रेस डिवाइस के हार्डवेयर पर फिक्‍स रहता है, जबकि उसी डिवाइस का IP एड्रेस उसके TCP/IP नेटवर्क कॉन्फ़िगरेशन के आधार पर बदला जा सकता है।

मीडिया एक्सेस कंट्रोल OSI model के लेयर 2 पर ऑपरेट होता है जबकि इंटरनेट प्रोटोकॉल लेयर 3 पर काम करता है। यह MAC एड्रेसिंग को TCP/IP के अलावा अन्य प्रकार के नेटवर्क को सपोर्ट देने की अनुमति देता है।

IP ​​नेटवर्क Address Resolution Protocol (ARP) का उपयोग कर IP और MAC एड्रेस के बीच कन्वर्शन को मैनेज करता है। Dynamic Host Configuration Protocol (DHCP) डिवाइस पर IP एड्रेस के युनिक असाइनमेंट को मैनेज करने के लिए ARP पर निर्भर करता है।

MAC Address Cloning:
कुछ इंटरनेट सर्विस प्रोवाइडर्स उनके प्रत्येक रेजिडेंशियल कस्‍टमर अकाउंट को होम नेटवर्क राउटर (या किसी अन्य गेटवे डिवाइस) के MAC एड्रेस से लिंक करते हैं। यह एड्रेस तब तक नहीं बदला जाता, जब तक कस्‍टमर अपने गेटवे को बदल देता है, जैसे कि जब वे नया रूटर इंस्‍टॉल करते हैं।

जब एक रेजिडेंशियल गेटवे बदल जाता है, तो इंटरनेट प्रोवाइडर को अब एक अलग MAC एड्रेस की सूचना मिलती है और वे इस डिवाइस को इंटरनेट एक्‍सेस से ब्‍लॉक करते हैं।


Cloning नाम कि एक प्रोसेस पुराने MAC एड्रेस को प्रोवाइड को रिपोर्ट करने के लिए router (gateway) को एनेबल करके इस समस्या का समाधान करती है, हालांकि उसका अपना हार्डवेयर एड्रेस अलग होता है।

क्लोनिंग ऑप्‍शन का उपयोग करने के लिए एडमिनिस्ट्रेटर्स अपने राउटर को कॉन्फ़िगर कर सकते हैं (यह मानते हुए कि यह इस फीचर को सपोर्ट करता है) और कॉन्फ़िगरेशन स्क्रीन में पुराने गेटवे का MAC एड्रेस एंटर करता हैं। जब क्लोनिंग उपलब्ध नहीं होती, तो कस्‍टमर्स को इसके बजाय अपने नए गेटवे डिवाइस को रजिस्‍टर करने के लिए सर्विस प्रोवाइडर्स से संपर्क करना चाहिए।


How To Find IP and MAC Addresses in Microsoft Windows:
माइक्रोसॉफ्ट विंडोज 10 या पूराने वर्जन पर चल रहे कंप्यूटर के Internet Protocol (IP) और Media Access Control (MAC) एड्रेस को जल्दी से ढूंढने के लिए इन इंस्ट्रक्शंस को फालो करें।

ध्यान दें कि कई विंडोज़ पीसी में एक से अधिक नेटवर्क एडाप्टर (जैसे ईथरनेट और वाई-फाई सपोर्ट के लिए अलग-अलग एडेप्टर) हैं तो उस पीसी या लैपटॉप में एकाधिक एक्टिव IP या MAC एड्रेस हो सकते हैं।


Finding IP and MAC Addresses in Windows 10 in Hindi:
Windows 10 वाई-फाई और ईथरनेट इंटरफेस के लिए एड्रेस इनफॉर्मेशन का पता लगाने के लिए इन स्‍टेप्‍स को फालो करें:

Windows Settings में जाएं और Network & Internet सेक्‍शन पर नेविगेट करें।

MAC Address Hindi
नीचे के View your network properties ऑप्‍शन पर क्लिक करें।

MAC Address Hindi
अब View your network properties एक विंडोज ओपन होगी, जहां पर आपको MAC एड्रेस दिखाई देगा।

Finding IP and MAC Addresses in Windows 8.1, Windows 8 and Windows 7 in Hindi

Start मेनू से Control Panel को ओपन करें।

Control Panel में Network and Sharing Center सेक्‍शन पर क्लिक करें।

MAC Address Hindi
स्क्रीन के लेफ्ट साइड से Change adapter settings ऑप्‍शन पर क्लिक करें।

MAC Address Hindi
अपने एक्टिव नेटवर्क के आइकॉन पर राइट क्लिक करें और Properties ऑप्‍शन पर क्लिक करें।

MAC Address Hindi
अब एक Properties विंडो ओपन होगी। यहां पर Details बटन पर क्लिक करने पर Physical Address, IP addresses और अन्य पैरामीटर्स कि लिस्‍ट दिखाई देगी।

Find IP and MAC Addresses in Windows in Hindi:
किसी भी विंडोज वर्जन में MAC एड्रेस और IP एड्रेस को देखने का एक आसानी तरीका हैं कमांड प्रॉप्‍म्‍ट से।

Ipconfig कमांड लाइन युटिलिटी सभी एक्टिव नेटवर्क एडाप्टर कि इनफॉर्मेशन को डिस्‍प्‍ले करता है।

Ipconfig का उपयोग करने के लिए, एक कमांड प्रॉम्प्ट ओपन करें।

इसके लिए Windows +R किज प्रेस करें और रन कमांड में cmd टाइप कर एंटर करें।

अब कमांड प्रॉम्‍प्‍ट में ipconfig /all टाइप कर एंटर करें।

आर्टिकल विवरण
Review Date
Reviewed Item
Rating
Author Rating
51star1star1star1star1star
और अधिक पढ़े

Write your Comment